Tuesday, October 27, 2020
Home Blog Page 2

जन्माष्टमी का व्रत हो तो रखे ये सावधानी वरना हो सकते है ये नुकसान

0
janmashtmi ka muhurat

यदि आप भी जन्माष्टमी वाले दिन व्रत रखने के बारे में सोच रहे हैं तो ऐसे में आपको कुछ बातों को ध्यान में रखना होगा। इस दिन आपको भगवान कृष्ण की पूजा में अपना मन लगाना होगा।
यदि महिलाएं यह व्रत रखने वाली है तो ऐसा करना उनके लिए बेहद ही फायदेमंद  होगा। इस दिन व्रत रखने से आपके परिवार में सुख और समृद्धि बनी रहेगी। साथ ही संतना प्राप्ति की भी मनोकामना पूरी हो सकती हैं।

janmashtmi ka muhurat

 

जन्माष्टमी व्रत व पूजन विधि

1.  जन्माष्टमी व्रत में अष्टमी के उपवास से पूजन और नवमी के पारणा से व्रत की पूर्ति होती है।
2.  जन्माष्टमी व्रत को करने वाले को चाहिए कि व्रत से एक दिन पूर्व (सप्तमी को) हल्का तथा सात्विक भोजन करें। रात्रि को स्त्री संग से वंचित रहें और सभी ओर से मन और इंद्रियों को काबू में रखें।

3.  उपवास वाले दिन प्रातः स्नानादि से निवृत होकर सभी देवताओं को नमस्कार करके पूर्व या उत्तर को मुख करके बैठें।
4.  हाथ में जल, फल और पुष्प लेकर संकल्प करके मध्यान्ह के समय काले तिलों के जल से स्नान (छिड़ककर) कर देवकी जी के लिए प्रसूति गृह बनाएँ। अब इस सूतिका गृह में सुन्दर बिछौना बिछाकर उस पर शुभ कलश स्थापित करें।

5.  साथ ही भगवान श्रीकृष्ण जी को स्तनपान कराती माता देवकी जी की मूर्ति या सुन्दर चित्र की स्थापना करें। पूजन में देवकी, वासुदेव, बलदेव, नन्द, यशोदा और लक्ष्मी जी इन सबका नाम क्रमशः लेते हुए विधिवत पूजन करें।
6.  जन्माष्टमी व्रत रात्रि बारह बजे के बाद ही खोला जाता है। इस व्रत में अनाज का उपयोग नहीं किया जाता। फलहार के रूप में कुट्टू के आटे की पकौड़ी, मावे की बर्फ़ी और सिंघाड़े के आटे का हलवा बनाया जाता है।

यह भी पढ़े
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2020, जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त और व्रत विधि
जाने जन्माष्टमी की प्रचलित लोक कथा | janmashtmi vrat katha

ज्यादा से ज्यादा फलों का सेवन करें

  • व्रत के दिन अधिक मात्रा में फल खाना आपको एनर्जी देगा। फलों में विटामिन के साथ ही न्यूट्रिएंट्स आपको तरोताजा रखेंगे।
  • पानी की अधिकता वाले फल जैसे वाटर मेलन और मस्क मेलन आदि भी ले सकते हैं। ये फल पानी की कमी को पूरा करने के साथ ही आपको जरूरी न्यूट्रिएन्ट्स प्रदान करेंगे।
  • न्यूट्रिएन्टिस की मात्रा बढ़ाने के लिए आप फलों के साथ ही दूध या दही भी मिक्स कर सकते हैं।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2020, जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त और व्रत विधि

0
janmashtmi 2020

हिंदुओं के सबसे पवित्र और बड़े त्योहारों में से एक कृष्ण जन्माष्टमी को माना जाता है। इस दिन को बेहद ही धूमधाम के साथ पूरे भारत में मनाया जाता है। जन्माष्टमी आने में अब वक्त ही कहां बचा है। कुछ जगहों पर ये त्योहार 23 को मनाया जा रहा है।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी आपका आत्मिक सुख जगाने का, आध्यात्मिक बल जगाने का पर्व है। जीव को श्रीकृष्ण-तत्त्व में सराबोर करने का त्यौहार है। तुम्हारा सुषुप्त प्रेम जगाने की दिव्य रात्रि है।

janmashtmi 2020

श्रीकृष्ण का जीवन सर्वांगसंपूर्ण जीवन है। उनकी हर लीला कुछ नयी प्रेरणा देने वाली है। उनकी जीवन-लीलाओं का वास्तविक रहस्य तो श्रीकृष्ण तत्त्व का आत्मरूप से अनुभव किये हुए महापुरूष ही हमें समझा सकते हैं।

यह भी पढ़े
10 janmashtmi whatsapp status | जन्माष्टमी स्टेटस
जन्माष्टमी का व्रत हो तो रखे ये सावधानी वरना हो सकते है ये नुकसान
जाने जन्माष्टमी की प्रचलित लोक कथा | janmashtmi vrat katha

कृष्ण जन्माष्टमी का मुहूर्त

1.  अष्टमी पहले ही दिन आधी रात को विद्यमान हो तो जन्माष्टमी व्रत पहले दिन किया जाता है।
2.  अष्टमी केवल दूसरे ही दिन आधी रात को व्याप्त हो तो जन्माष्टमी व्रत दूसरे दिन किया जाता है।
3.  अष्टमी दोनों दिन आधी रात को व्याप्त हो और अर्धरात्रि (आधी रात) में रोहिणी नक्षत्र का योग एक ही दिन हो तो जन्माष्टमी व्रत रोहिणी नक्षत्र से युक्त दिन में किया जाता है।

4.  अष्टमी दोनों दिन आधी रात को विद्यमान हो और दोनों ही दिन अर्धरात्रि (आधी रात) में रोहिणी नक्षत्र व्याप्त रहे तो जन्माष्टमी व्रत दूसरे दिन किया जाता है।
5.  अष्टमी दोनों दिन आधी रात को व्याप्त हो और अर्धरात्रि (आधी रात) में दोनों दिन रोहिणी नक्षत्र का योग न हो तो जन्माष्टमी व्रत दूसरे दिन किया जाता है।
6.  अगर दोनों दिन अष्टमी आधी रात को व्याप्त न करे तो प्रत्येक स्थिति में जन्माष्टमी व्रत दूसरे ही दिन होगा।

जन्माष्टमी व्रत व पूजन विधि

1.  जन्माष्टमी व्रत में अष्टमी के उपवास से पूजन और नवमी के पारणा से व्रत की पूर्ति होती है।
2.  जन्माष्टमी व्रत को करने वाले को चाहिए कि व्रत से एक दिन पूर्व (सप्तमी को) हल्का तथा सात्विक भोजन करें। रात्रि को स्त्री संग से वंचित रहें और सभी ओर से मन और इंद्रियों को काबू में रखें।

3.  उपवास वाले दिन प्रातः स्नानादि से निवृत होकर सभी देवताओं को नमस्कार करके पूर्व या उत्तर को मुख करके बैठें।
4.  हाथ में जल, फल और पुष्प लेकर संकल्प करके मध्यान्ह के समय काले तिलों के जल से स्नान (छिड़ककर) कर देवकी जी के लिए प्रसूति गृह बनाएँ। अब इस सूतिका गृह में सुन्दर बिछौना बिछाकर उस पर शुभ कलश स्थापित करें।

5.  साथ ही भगवान श्रीकृष्ण जी को स्तनपान कराती माता देवकी जी की मूर्ति या सुन्दर चित्र की स्थापना करें। पूजन में देवकी, वासुदेव, बलदेव, नन्द, यशोदा और लक्ष्मी जी इन सबका नाम क्रमशः लेते हुए विधिवत पूजन करें।
6.  जन्माष्टमी व्रत रात्रि बारह बजे के बाद ही खोला जाता है। इस व्रत में अनाज का उपयोग नहीं किया जाता। फलहार के रूप में कुट्टू के आटे की पकौड़ी, मावे की बर्फ़ी और सिंघाड़े के आटे का हलवा बनाया जाता है।

Top 10 रक्षाबंधन बधाई संदेश। Rakshabandhan Status in Hindi

0
rakshabandhan whatsapp status

Top 10 रक्षाबंधन बधाई संदेश

दीदी थाली सजाऐगी चांदी की थाल मे
भाई को राखी बांधेगी अपनी हैं पसंद से
सुंदर सी राखी का सुदंर सा तोहफा
भाई बहन का रिश्ता सबसे अनोखा
Happy Raksha Bandhan My Dear Sister

रेशम की डोरी या एक आंटी
बांध देना कलाई पर,
मगर बहन चीन की राखी मत खरीदना,
हर भाई गया है तेरा लड़ाई पर ।।
Happy Rakshabandhan

rakshabandhan whatsapp status

भेजी नहीं है राखी किसी गैर के साथ में,
खुद ही आकर बधंवा लेना अपनी बहन के हाथ से।
लूंगी नहीं कोई तोहफा उस कोरियर वाले के हाथ से,
खुद ही लेते आना खोलेंगे उसे साथ में।
हाँ! गुस्सा और नाराजगी छलक रही हर बात में
इस बार तो राखी मनाएंगे तुम्हारे ही साथ में।

काश मेरी होती अपनी बहन
हम भी तो उससे लड़ पाते
रोती कभी तो हम उसे दुलार पाते
लड़ाई तो होती रोज तो क्या
पर अपनी जज़्बात तो कह पाते
हा वो मेरी महोब्बत होती अपनी
उसकी धड़कन को तो समझ पाता
बिन कहे बिन सुने जज्बातों को पढ़ पाता
उनकी ख्वाइश को पूरी करने की कोशिश तो करता
अपनी हर जज़्बात को बयां तो उससे कर पाता
मेरी हर बातो को वो भी समझ पाती
बिन कहे बिन सुने मेरे आंखों पढ़ पाती
मेरे वो हर दुख़ में मुझे गले तो लगा पाती
हा, तुम्हारी कमी मुझे खलती है हमेशा
काश मेरी अपनी बहन भी होती

यह भी पढ़े
Raksha Bandhan 2020: ये है राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त
जानिए मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की रहस्यमयी कहानियां, जहाँ भूत-प्रेतों से लोंगो को मिलती है मुक्ति
ऐसा मंदिर जहा नहाने से सही हो जाती है हर बीमारी

यूट्यूब देख देखकर
नई नई डिश खोज लती है।।
जब जब मैं रूठ जाऊ,
हर बार मुझे मनाती है।
सबसे सिफारिश करके वो
मेरी हर जिद मानवती है।।
Happy Raksha Bandhan
My Dear Sister

याद है हमें हमारा वो बचपन
वो लड़ना, वो झगड़ना और वो मना लेना
यही होता है भाई बहन का प्यार, और
इसी प्यार को बढ़ाने आ रहा है
रक्षा बन्धन का त्योहार
Happy Raksha Bandhan

लाल गुलाबी राखी से रंग रहा संसार
सूरज की किरणे खुशियों की बहार
चांद की चांदनी अपनों का प्यार
मुबारक हो आपको राखी का त्योहार
Happy Raksha Bandhan

रिश्ता है जन्मों का हमारा , भरोसे का और प्यार भरा ,
चलो भईया, इसे बाँधे राखी के अटूट बँधन में …
Happy Raksha Bandhan to my dearest brother!!

खी कर देती है, सारे गिले-शिकवे दूर …इतनी ताकतवर होती है कच्चे धागों की पावन डोर
याद है हमारा वो बचपन , वो लड़ना – झगड़ना और वो मना लेना,
यही होता है भाई – बहन का प्यार,
और इसी प्यार को बढ़ाने के लिए आ रहा है रक्षा बंधन का त्यौहार।

साथ पले और साथ बढ़े हैं , खूब मिला बचपन में प्यार।,
भाई बहन का प्यार बढ़ाने आया ये त्यौहार ,
Happy Raksha Bandhan to all !!

आखिर रक्षा बंधन की शुरुआत कहाँ से हुई और क्यों जाने ?

0
rakhi kyu manai jati hai

रक्षाबंधन(raksha bandhan) के दिन बहन भाई के माथे पर तिलक लगा कर उसके दीर्घायु होने की कामना करती है। कहते हैं इस धागे का संबंध अटूट होता है। जब तक जीवन की डोर और श्वांसों का आवागमन रहता है एक भाई अपनी बहन के लिए और उसकी सुरक्षा तथा खुशी के लिए दृढ़ संकल्पित रहता है।

rakhi kyu manai jati hai
भाई और बहन का रिश्ता सबसे खास होता है. इस रिश्ते में भले ही कितनी भी लड़ाईयां और नोंक-झोंक क्यों ना होती है, लेकिन भाई-बहन हर मुसीबत में एक-दूसरे का साथ निभाते है. भाई-बहन के प्यार का प्रतीक सबसे खास त्योहार रक्षाबंधन होता है, जिसका दोनों ही काफी बेसब्री से इंतेजार करते हैं. रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाई की कलाईयों पर रक्षा सूत्र बांधती हैं और उनकी लंबी आयु की कामना करती हैं. वहीं भाई अपनी बहनों को जिंदगीभर रक्षा का वचन देते हैं.

यह भी पढ़े
Top 10 रक्षाबंधन बधाई संदेश। Rakshabandhan Status in Hindi
Raksha Bandhan 2020: ये है राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त
जानिए मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की रहस्यमयी कहानियां, जहाँ भूत-प्रेतों से लोंगो को मिलती है मुक्ति
ऐसा मंदिर जहा नहाने से सही हो जाती है हर बीमारी
हमारे देश में राखी के इस पावन दिन से जुड़ी कई कहानियां हैं, जिससे इस अनूठे त्योहार की विशेषता का पता चलता है।इस रक्षा बंधन के मौके पर आइए जानते हैं कुछ ऐसी कहानियां जो भाई-बहन के अटूट प्रेम के  त्योहार की विशेषता को दिखता है।

यम-यमुना रक्षा बंधन:-

पौराणिक कथाओं के अनुसार, राखी के त्योहार की शुरुआत मृत्यु के देवता यम और उनकी बहन यमुना के बीच रक्षा बंधन से भी मानी जाती है। यमुना ने अपने भाई यम को राखी बांधी थी।  यम ने इस पर यमुना को अमरत्व का वरदान दिया। मृत्यु के देवता यम ने इस त्योहार को लेकर वरदान दिया था कि जो भाई रक्षा बंधन के अवसर पर बहन से राखी बंधवाता है और उसकी आजीवन सुरक्षा का वचन देता है, तो उसे सुरक्षा की प्राप्ति होगी।

कैसे कृष्ण-द्रौपदी से शुरुआत हुआ रक्षा बंधन :-

रक्षा बंधन या  राखी या रक्षा सूत्र बांधने की सबसे पहली कहानी महाभारत में आती है, जहां भगवान श्री कृष्ण को द्रौपदी द्वारा राखी बांधने की कहानी है। जहां भगवान श्री कृष्ण को द्रौपदी द्वारा राखी बांधने की कहानी है।
महाभारत में वर्णन है  भगवान कृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से चेदि नरेश शिशुपाल का वध कर दिया था। तब इसी दौरान उनकी अंगुली कट गई और उससे खून बहने लगा।
rakhi ki kahani in hindi
यह देखकर  रानी द्रौपदी विचलित हुई और अपनी साड़ी का किनारा फाड़कर कृष्ण की कटी अंगुली पर बांध दी।कृष्ण ने इस पर द्रौपदी से वादा किया कि वे भी मुश्किल वक्त में द्रौपदी के काम आएंगे

 

लक्ष्मी-बलि:-

देवी लक्ष्मी और राजा बलि के बीच राखी बांधने को लेकर भी एक कथा प्रचलित है. इसके अनुसार देवी लक्ष्मी ने एक बार खुद को आश्रयहीन महिला बताते हुए राजा बलि के महल में शरण मांगी. बलि ने देवी को सहर्ष अपने महल में ठहरने को कहा. सावन पूर्णिमा के दिन देवी लक्ष्मी ने राजा बलि की कलाई पर एक सूती धागा बांधते हुए उनसे रक्षा करने की मांग की।

जब राजा बलि ने इसका तात्पर्य पूछते हुए उनसे वरदान मांगने को कहा तो देवी लक्ष्मी ने द्वारपाल की तरफ इशारा किया. द्वारपाल दरअसल विष्णु थे, जो राजा बलि की सुरक्षा में तैनात थे. देवी लक्ष्मी की रक्षा का वचन दे चुके राजा बालि ने इस पर विष्णु से कहा कि वह लक्ष्मी के साथ अपने निवास पर लौट जाएं. भगवान विष्णु ने भी इसके बाद राजा बलि को आश्वासन दिया कि वे साल के 4 महीने उनके साथ रहेंगे।

इस तरीके से रक्षा बंधन की शुरुआत हुई जो प्राचीन काल से ये सिर्फ यही नहीं बना इसके पीछे का उद्देश्य बहुत ही गहरा और अच्छा है।

Raksha Bandhan 2020: ये है राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त

0
rakhi muhurat 2020

वैश्विक महामारी  कोरोना के इस संकट काल में भाई बहन का पवित्र त्यौहार रक्षाबंधन भी आ गया है । वैसे तो देश में अभी सारे परिवहन के साधन अभी बंद पड़े हुए है। बस हो , ट्रैन हो या हवाई जहाज़ इस कोरोना काल में कोई भी परिवहन का साधन चालू नहीं है । ऐसे में इस साल कई भाइयो की कलाई सुनी रह जायगी , बहुत सी बहने इस वर्ष अपने भाई के घर नहीं जा पाएगी।
rakhi muhurat 2020

भाई और बहन का रिश्ता सबसे खास होता है. इस रिश्ते में भले ही कितनी भी लड़ाईयां और नोंक-झोंक क्यों ना होती है, लेकिन भाई-बहन हर मुसीबत में एक-दूसरे का साथ निभाते है. भाई-बहन के प्यार का प्रतीक सबसे खास त्योहार रक्षाबंधन होता है, जिसका दोनों ही काफी बेसब्री से इंतेजार करते हैं. रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाई की कलाईयों पर रक्षा सूत्र बांधती हैं और उनकी लंबी आयु की कामना करती हैं. वहीं भाई अपनी बहनों को जिंदगीभर रक्षा का वचन देते हैं.

29 सालों के बाद बन रहा शुभ संयोग

दोस्तों जैसा की हम सब जानते है की  सावन महीने की पूर्णिमा को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है, इस साल रक्षाबंधन के त्योहार पर बेहद ही शुभ संयोग बन रहा है, जो 29 सालों के बाद आया है. इस बार ये त्योहार 3 अगस्त सावन के आखिरी सोमवार के दिन ही पड़ रहा है. ये रक्षाबंधन काफी खास होने वाला है क्योंकि इस साल इस त्योहार पर सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग बन रहा है.

ऐसा माना जाता है कि राखी शुभ मुहूर्त में ही बांधी जानी चाहिए. जब बहनें अपनी भाईयों की कलाई पर राखी बांधने, तो उस समय भद्रा नहीं होनी चाहिए. कहते हैं कि रावण की बहन से उसे भद्रा काल में ही राखी बांधी थी, इसलिए रावण का विनाश हो गया.

यह भी पढ़े
आखिर रक्षा बंधन की शुरुआत कहाँ से हुई और क्यों जाने ?
जानिए मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की रहस्यमयी कहानियां, जहाँ भूत-प्रेतों से लोंगो को मिलती है मुक्ति
ऐसा मंदिर जहा नहाने से सही हो जाती है हर बीमारी

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त

पंचांगों के मुताबिक 3 अगस्त को सुबह 9 बजकर 29 मिनट तक भ्रदा है. रक्षाबंधन सुबह साढ़े 9 बजे से शुरू हो जाएगा. इस दौरान दोपहर एक बजकर 35 मिनट से शाम 4 बजकर 35 मिनट तक राखी बांधने का सबसे अच्छा समय बताया जा रहा है, इसके बाद शाम को 07:30 बजे से 09:30 बजे तक का समय भी राखी बांधने के लिए शुभ मुहूर्त रहेगा.रक्षा सूत्र बांधते समय भाई को पूर्व दिशा की ओर बैठाएं. अगर पीढ़ा आम की लकड़ी का बना हो तो सर्वश्रेष्ठ है. भाई को तिलक लगाते समय बहन का मुंह पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए. इसके बाद भाई के माथे पर टीका लगाकर दाहिने हाथ पर रक्षा सूत्र बांधें. राखी बांधने के बाद भाई की आरती उतारें. उसको मिठाई खिलाएं.

इस दिन सुबह 9 :30 से 10:30 बजे तक शुभ, दोपहर 1:30 से 3 बजे तक चर, दोपहर 3 से 4:30 बजे तक लाभ, शाम 4:30 से 6 बजे तक अमृत और शाम 6 से 7:30 बजे तक चर का चौघड़िया बताया जा रहा है. सोमवार के दिन रक्षाबंधन होने से अन्न और धनधान्य के लिए अच्छे अवसर रहेंगे.पूर्णिमा तिथि की शुरुआत 2 अगस्त की रात्रि 08:36 से शुरू हो जाएगी. पंडितों के मुताबिक, पूर्णिमा तिथि की समाप्ति 3 अगस्त की रात्रि 08:29 पर हो रहा.

इस बार राखी पर बहुत ही अच्छे ग्रह नक्षत्रों का संयोग बन रहा है. सोमवार को आयुष्मान दीर्घायु योग है, यानि भाई-बहन दोनों की आयु लंबी हो जाएगी. साथ ही 3 अगस्त को सावन के आखिरी सोमवार के दिन ही पूर्णिमा है. ऐसा संयोग बेहद कम होता है, जब सोमवार को ही पूर्णिमा हो.

कोरोना ने त्योहार की रौनक फीकी

हालांकि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने सभी त्योहारों का रंग फीका कर दिया. इस बार रक्षाबंधन के दौरान बाजारों में वो रौनक नहीं देखने को मिल रही है, जो हर साल होती है. वहीं इस दौरान जो भाई-बहन दूर रहते हैं, उनका एक-दूसरे से मिलना भी मुश्किल हो रहा है. हालांकि दूर-दूर रहकर भी भाई-बहन इस त्योहार वीडियो कॉल के जरिए इस त्योहार को मना सकते हैं.

बहनें वीडियो कॉल पर भाई को देखते हुए भगवान कृष्ण की तस्वीर सामने रखकर उनके सामने राखी रख दें,भाई भी वीडियो कॉल पर ही बहनों को आर्शीवद दे |